Romantic Shayari

  1. राह में संग चलूँ ये न गँवारा उसको,
    दूर रहकर वो करता है इशारे बहुत,
    नाम तेरा कभी आने न दिया होंठों पर,
    यूँ तेरे जिक्र से शेर सँवारे हैं बहुत।
  2. खुदा की फुर्सत में एक पल आया होगा,
    जब उसने तुझ जैसा प्यारा इंसान बनाया होगा,
    न जाने कौन से दुआ कुबूल हुई हमारी,
    जो उसने मुझे तुझसे मिलाया होगा..
  3. कोई छुपाता है, कोई बताता है,
    कोई रुलाता है, तो कोई हंसाता है,
    प्यार तो हर किसी को ही किसी न किसी से हो जाता है,
    फर्क तो इतना है कि कोई अजमाता है और कोई निभाता है ..
  4. नजरों को तेरे प्यार से इंकार नहीं है,
    अब मुझे किसी और का इंतज़ार नहीं है,
    खामोश अगर हूँ मैं तो ये वजूद है मेरा
    तुम ये न समझना कि तुमसे प्यार नहीं है।
  5. ज़िन्दगी में बार बार सहारा नहीं मिलता,
    बार- बार कोई प्यार से प्यारा नहीं मिलता,
    हे जो पास उसे संभाल के रखना,
    खो कर वो कभी दुबारा नहीं मिलता
  6. चुपके से आकर इस दिल में उतर जाते हो
    सांसो में मेरे खुशबू बन कर बिखर जाते हो
    कुछ यूं चला है तेरे इश्क का
    जादू सोते जागते तुम ही तुम नजर आते हो
  7. दिन रात हम वो हर काम लिख लेते हैं,
    तेरी याद में गुजरी हर शाम लिख लेते हैं,
    तुझे देखे बिना इक पल भी कटता नहीं,
    अकेले में हथेली पे तेरा नाम लिख लेते हैं।
  8. ये प्यारा सा जो रिश्ता है, कुछ मेरा है, कुछ तेरा है,
    कहीं लिखा नहीं, कहीं पढ़ा नहीं,
    कहीं देखा नहीं, कहीं सुना नहीं,
    अजीब सा रिश्ता है आपका और हमारा.
  9. नजरों को तेरे प्यार से इंकार नहीं है,
    अब मुझे किसी और का इंतज़ार नहीं है,
    खामोश अगर हूँ मैं तो ये वजूद है मेरा
    तुम ये न समझना कि तुमसे प्यार नहीं है।
  10. तूने मोहब्बत, मोहब्बत से ज्यादा की थी,
    मैंने मोहब्बत तुझसे भी ज्यादा की थी,
    अब किसे कहोगे मोहब्बत की इन्तेहाँ,
    हमने शुरुआत ही इन्तेहाँ से ज्यादा की थी।
  11. अपना प्यारा सा एक एहसास दे दो,
    दिल में छोटी सी ही सही पर जगह ख़ास दे दो,
    हमे प्यार है तुम से ज़िन्दगी से ज्यादा,
    बना के हमे अपना ज़िन्दगी को एक ख़ुशी का साथ दे दो.
  12. क्यूँ किसी से इतना प्यार हो जाता है,
    एक दिन का भी इंतजार दुश्वार हो जाता है,
    लगने लगते है अपने भी पराए,
    जब एक अजनबी पर ऐतबार हो जाता है
  13. ऐ सनम मैं तेरे लिए बदनाम हो जाऊं,
    तू अपनी ओर खींचे वो लगाम हो जाऊं,
    किसी और मंजिल की चाह नहीं मुझको,
    सिर्फ तेरी ही गलियों में गुमनाम हो जाऊं
  14. दिल के सागर मे लहरे उठाया ना करो,
    ख्वाब बनकर नींद चुराया ना करो,
    बहोट चोट लगती है मेरे दिल को,
    तुम ख्वाबो में आ कर यू तडपया ना करो..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *